पीएम मोदी के नाम पर

ALERT : पीएम मोदी के नाम पर शेयर हो रहा है झूठा दावा, यहां जानिये सच

सोशल मीडिया अब झूठ का अड्डा बनता जा रहा है. हर रोज हजारों की संख्या में फेक न्यूज, फोटो और वीडियो वायरल होते रहते हैं. इनमें से अधिकतर नेताओं से जुड़े होते हैं. आज हमारे हाथ पीएम मोदी के नाम पर शेयर किया जा रहा ANI का एक ट्वीट लगा. इस ट्वीट में लिखा है, ‘हिमाचल में हम एलईडी बल्ब अभियान से रोजाना एक करोड़ और सालाना 3.5 करोड़ रुपये की बचत कर रहे हैं : पीएम मोदी’ देखिये यह पोस्ट-

पीएम मोदी के नाम पर

सोशल मीडिया में शेयर हो रही पोस्ट

ANI_news के बताए जा रहे इस ट्वीट का पोस्ट करते हुए लिखा गया है कि हमारे पीएम बेसिक मैथ्स भी नहीं जानते. पोस्ट में किया गया ट्वीट 18 अक्टूबर 2016 का है. यह खबर लिखे जाने तक इस पोस्ट को 803 बार शेयर की जा चुका है. हमने इस ट्वीट में किए गए दावे की पड़ताल की.

पीएम मोदी के नाम पर फैलाया जा रहे झूठ की पड़ताल

हमारी पड़ताल में हमने सबसे पहले यह देखा कि ANI का बताकर जिस ट्वीट को वायरल किया जा रहा है वो असल में ANI का ऑफिशियल हैंडल है नहीं. हमें पता चला कि न्यूज एजेंसी ANI का ऑफिशियर ट्विटर हैंडल @ANI_news ना होकर @ANI है, जबकि फेसबुक पर शेयर हो रहा ट्वीट @ANI_news के हैंडल से किया गया है. इसके बाद इस ट्वीट के फेक होने के चांस और ज्यादा हो गये.

#MeToo : वैचारिक मतभेद भूलकर महिलाओं का समर्थन कर रहे लोग, ट्विटर पर दिखी एक झलक

इसके बाद हमने इस फेक ट्वीट में किए गए दावे की पुष्टि के लिए पीएम नरेंद्र मोदी का पूरा भाषण सुना, जिसमें उन्होंने यह बात कही थी. यह भाषण पीएम मोदी ने अक्टूबर 2016 में हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले प्रचार के दौरान एक रैली में दिया था. इस भाषण को सुनने के बाद असल तस्वीर हमारे सामने आ गई. इस भाषण का वीडियो नीचे दिया गया है. एलईडी अभियान वाली बात सुनने के लिए वीडियो को 1 घंटा 10 मिनट पर देखना शुरू करें.

अपने भाषण में पीएम मोदी ने कहा कि हिमाचल में एलईडी अभियान से रोजाना 95 लाख रुपये की बचत हो रही है जो लगभग 1 करोड़ रुपये है. इस हिसाब से साल में लगभग 350 करोड़ रुपये की बचत हो रही है.

सच

हमारी पड़ताल में पता चला कि पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा था कि एलईडी अभियान से रोजाना लगभग एक करोड़ रुपये और सालाना लगभग 350 करोड़ रुपये की बचत हो रही है ना कि सालाना 3.5 करोड़ रुपये की, जैसा कि वायरल ट्वीट में दावा किया जा रहा है. हमारी पड़ताल में वायरल दावा फेक साबित हुआ है.

अमृतसर रेल हादसा : इतनी मौतों के बाद भी नफ़रत फैलाने से नहीं चूके सुदर्शन टीवी के मालिक सुरेश चव्हाणके

हमारी अपील

हम आपसे अपील करते हैं कि इस तरह के फेक ट्वीट, फेक न्यूज, फेक फोटो और वीडियो को शेयर या फॉरवर्ड ना करें. सोशल मीडिया पर बहुत झूठ फैला हुआ है. यह झूठ अब लोगों की जान लेने लगा है. इसलिए इस झूठ से खुद भी बचे और अपने परिवार और दोस्तों को भी बचाएं.

ये भी पढ़ें-

अमृतसर हादसा : ANI की रिपोर्टिंग में लापरवाही, लगातार गलत तथ्यों को सामने रख रही है एजेंसी

सबरीमाला मंदिर : दैनिक भारत फैला रहा नफरत, झूठ के सहारे महिलाओं को बदनाम करने की कोशिश

 

Posted in Fake News and tagged , , , , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *