अब डिजिटल न्यूज मीडिया पर भी संकट के बादल, बजफीड और हफपोस्ट करेंगी कर्मचारियो की छंटनी

अखबार और टीवी न्यूज इंडस्ट्री में लोगों की नौकरियां जाने का दौर चल ही रहा है कि अब डिजिटल मीडिया में भी यही हाल शुरू हो गया है. वाशिंगटन पोस्ट की एक रिपोर्ट के मुताबिक, बजफीड (BuzzFeed) ने अपने 15 प्रतिशत स्टाफ को कम करने का फैसला किया है. बजफीड को अपने लिस्टिकल आर्टिकल्स और सीरीयस न्यूज के साथ-साथ क्विज के चलते अच्छी पहचान मिली थी.

बजफीड

रिपोर्ट में कहा गया है कि न्यूयॉर्क स्थित बजफीड के इस फैसले से लगभग 215 लोगों को नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा. बता दें बजफीड ने हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनके पर्सनल वकील माइकल कोहेन के बारे में विवादित रिपोर्ट छापी थी. कंपनी ने लोगों ने बताया कि छंटनी की योजना महीनों से तैयार हो रही है और इसका कोहेन की रिपोर्ट से कोई संबंध नहीं है.

FACT CHECK: क्या गल्फ न्यूज ने राहुल गांधी को अपनी खबर में पप्पू बताया है?

न्यूजपेपर और टीवी चैनल जैसे परंपरागत मीडिया संस्थान पहले से डिजिटल मीडिया आने के कारण मुश्किलों का सामना कर रहे थे. इसकी बड़ी वजह उनको मिलने वाले विज्ञापनों का डिजिटल मीडिया के हिस्से में चला जाना रहा है. हालांकि पिछले कुछ समय से डिजिटल कंपनियों को भी इसी समस्या का सामना करना पड़ रहा है. गूगल और फेसबुक के नए नियमों के कारण इन कंपनियों को विज्ञापन मॉडल समझने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.

बजफीड के अलावा वाइस (Vice) ने भी नई हायरिंग पर रोक लगा रखी है. इसके अलावा कंपनी इस साल अपनी वर्कफोर्स में 10-15 फीसदी की कटौती करेगी. वहीं हफपोस्ट, AOL और याहू के स्वामित्व वाली कंपनी वेरिजोन मीडिया ग्रुप भी अपने 7 प्रतिशत कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाएगी.

क्या केजरीवाल ने कोलकाता रैली में कहा था कि मोदी और शाह पाकिस्तान को बर्बाद कर देंगे?

इनके अलावा Refinery29, वॉक्स मीडिया और माइक (Mic) पर की भी हालत खराब है. वॉक्स ने पिछले साल 50 कर्मचारियों को पिंक स्लिप थमाई थी. वहीं Refinery29 ने पिछले साल अक्टूबर में 40 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला था. अखबार और टीवी जैसे परंपरागत मीडिया संस्थानों में यह समस्या कई सालों से चली आ रही है. विशेषज्ञ मान रहे हैं कि न्यूज इंडस्ट्री इस समय मुश्किलों से जूझ रहे है और इसे अपने आप को बचाए रखने के लिए नया बिजनेस मॉडल देखना होगा.

ये भी पढ़ें-

क्या बुर्ज खलीफा पर राहुल गांधी की फोटो दिखाई गई थी? क्या है वायरल दावे की सच्चाई

अरविंद केजरीवाल के पोर्न वीडियो देखने के दावे की हकीकत क्या है? यहां जानिये पूरी कहानी

क्या तुर्की ने पीएम मोदी को सबसे महान नेता बताते हुए उनके सम्मान में टिकट जारी किया है?

Posted in Media, News and tagged , , , , , , , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *