CRPF

शरारती तत्व फैला रहे पुलवामा के शहीदों की फेक फोटो, CRPF ने कहा- भरोसा न करें

पुलवामा में CRPF के काफिले पर हमले के बाद सोशल मीडिया पर फेक न्यूज का बाजार गरम है. सोशल मीडिया पर इस हमले से जुड़ी कुछ असली और कुछ फेक तस्वीरें खूब वायरल हो रही हैं. वहीं कुछ लोग पुरानी तस्वीरों को पुलवामा हमले की बताकर शेयर कर रहे हैं. इस हमले ने देश को कभी न भुला सकने वाला जख्म दिया है, जिसके बाद देशभर में गुस्से का माहौल है. कुछ लोग इस माहौल का फायदा उठाकर नफरत फैलाने में लगे है.

CRPF

इस हमले के बाद सोशल मीडिया पर जवानों की कई फोटो शेयर हो रही हैं. इनके साथ अलग-अलग दावे किये जा रहे हैं. इन सबके बीच CRPF ने ट्वीट कर लोगों से ऐसी फोटो से सावधान रहने की अपील की है. CRPF ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘यह नोटिस में आया है कि कुछ शरारती तत्व शहीद जवानों के अंगों की फेक फोटो शेयर कर नफरत फैलाने की कोशिश कर रहे हैं. हम एकजुट है. ऐसी किसी भी फोटो को लाइक, शेयर और आगे फॉरवर्ड न करें.’ इस ट्वीट का स्क्रीनशॉट आप नीचे देख सकते हैं.

CRPF

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में देश ने 40 सीआरपीएफ जवान खो दिए. जवानों की शहादत के बाद देश में गम का माहौल है. सरकार ने हमले के बाद कहा कि सेना को खुली छूट दी गई है. इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी.

हमारी अपील

पूरा देश में इस समय गम और गुस्से का माहौल है. इस कायराना हमले ने पूरे देश को झकझोर दिया है. कुछ लोग इस माहौल का गलत फायदा उठाकर नफरत फैलाने की कोशिश में लगे हैं. सोशल मीडिया पर कई वीडियो वायरल हो रहे हैं जो इस हमले से जुड़े हुए नहीं है, लेकिन उन्हें यहां का बताया जा रहा है. ऐसे नाजुक मौके पर हम आपसे फेक न्यूज, फेक वीडियो और फेक फोटो से सावधान रहने की अपील करते हैं.

अगर आपके पास ऐसा कोई वीडियो, न्यूज या फोटो आती है, जिस पर आपको शक है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं. हम उसका सच आपके सामने रखने की कोशिश करेंगे.

ये भी पढ़ें-

योगी आदित्यनाथ ने पश्चिम बंगाल में हेलिकॉप्टर से नहीं ली एंट्री, शेयर हो रहा पुराना वीडियो 

फेक न्यूज के मामले में दुनियाभर में पहले नंबर पर भारत, आम चुनाव से पहले खतरे की घंटी

क्यों वॉट्सऐप ने पिछले तीन महीनों में 60 लाख से ज्यादा अकाउंट बैन कर दिए?

Posted in News and tagged , , , , , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *