लोकसभा चुनाव की तारीखों

सोशल मीडिया पर शेयर हो रहे लोकसभा चुनाव की तारीखों वाले मैसेज की सच्चाई क्या है?

इस साल देश में लोकसभा चुनाव होने हैं. माना जा रहा है कि अप्रैल-मई में ये चुनाव हो सकते हैं. इसके लिए सभी पार्टियों ने तैयारियां शुरू कर दी है. चुनाव आयोग जैसी संस्थाएं भी इन चुनावों की तैयारियों में लग गई है. साथ ही फेक न्यूज फैक्ट्री भी इन चुनावों के लिए अपनी कमर कस चुकी है और चुनाव से जुड़ी फेक न्यूज फैलाना शुरू कर चुकी है. फेसबुक पर इन दिनों लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखों के ऐलान वाला मैसेज शेयर हो रहा है. देखिये ऐसी कुछ पोस्ट-

Election 2019 For All India1)Bihar =April 10,17,24,30 and May 7,12.2)Odisha =April 10,173)West Bengal=April 17,24,30…

Posted by लोकसभा चुनाव 2019 on Friday, January 11, 2019

Election 2019 For All India1)Bihar =April 10,17,24,30 and May 7,12.2)Odisha =April 10,173)West Bengal=April 17,24,30…

Posted by Swapnil Dinde on Monday, January 14, 2019

Election 2019 For All India will start from 7th April to 17th May 2019 1)Bihar =April 10,17,24,30 and May…

Posted by Kalyan Kumar on Sunday, January 13, 2019

इन पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि अप्रैल और मई में देशभर में चुनाव हो जाएंगे. इतना ही नहीं, इन पोस्ट में तारीख भी लिखी हुई है. क्या चुनाव आयोग ने 2019 के लोकसभा चुनावों का ऐलान कर दिया है? शेयर हो रहे इन मैसेज में कितनी सच्चाई है, आइये इसकी पड़ताल करते हैं.

लोकसभा चुनाव की तारीखों की पड़ताल

फेसबुक पर शेयर हो रहा यह मैसेज फेक है. यह बात सब जानते हैं कि लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान देशभर के लिए बड़ी खबर है और पूरी मीडिया इस खबर को कवर करेगी. इसके अलावा चुनाव आयोग इन तारीखों का ऐलान प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से करता है जो टीवी पर लाइव दिखाई जाती है. यह बात सब जानते हैं कि चुनाव आयोग ने अभी तक लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं किया है. जिस दिन चुनाव आयोग लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान करेगा, यह सबसे बड़ी खबर होगी.

शेयर हो रहे मैसेज का सच

हमारी पड़ताल में पता चला कि लोकसभा चुनावों की तारीखों वाला मैसेज फेक है. द क्विंट के मुताबिक, इन मैसेज में दिया गया चुनावों का शेड्यूल 2014 के लोकसभा चुनावों का शेड्यूल है. अब लगभग 5 साल बाद इस पुराने शेड्यूल को सिर्फ साल बदलकर शेयर किया जा रहा है. हम आपसे अपील करते हैं कि शेयर हो रहे इस फेक मैसेज पर भरोसा ना करें और ना ही इसे शेयर करें.

नहीं, आलोक वर्मा ने प्रधानमंत्री मोदी को भ्रष्ट प्रधानमंत्री नहीं बताया है

हमारी अपील

हमारी आपसे अपील है कि सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही फेक न्यूज के झांसे में ना आए. सोशल मीडिया बेवफा है इसलिए इस पर आई हर खबर को सच ना माने. किसी भी खबर पर भरोसा करने या शेयर करने से पहले उसे दूसरे सोर्स से वेरिफाई जरूर करें. फेक न्यूज समाज में नफरत और झूठ फैला रही है. यह हमारे समाज और देश के लिए खतरनाक है. इससे खुद भी बचाएं और अपने जानने वालों को भी बचाएं.

ये भी पढ़ें-

क्या बुर्ज खलीफा पर राहुल गांधी की फोटो दिखाई गई थी? क्या है वायरल दावे की सच्चाई

अरविंद केजरीवाल के पोर्न वीडियो देखने के दावे की हकीकत क्या है? यहां जानिये पूरी कहानी

क्या तुर्की ने पीएम मोदी को सबसे महान नेता बताते हुए उनके सम्मान में टिकट जारी किया है?

Posted in Fake News and tagged , , , , , , , , , , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *