3 दिन में फांसी

क्या प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उनके राज में रेप के आरोपियों को एक महीने में फांसी हो जाती है?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक बयान तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. दावे के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि उनकी सरकार में बलात्कार के आरोपियों को 3 दिन, 7 दिन, 11 दिन और एक महीने में फांसी पर लटका दिया जाता है. ये बात समाचार एजेंसी एएनआई के एक ट्वीट के आधार पर की जा रही है.

एएनआई के इस ट्वीट में प्रधानमंत्री मोदी को बयान है. इसके अनुसार मोदी ने गुजरात के सूरत में आयोजित अपनी रैली में कहा, “देश में रेप की घटनाएं पहले भी होती थीं. ये शर्म की बात है कि हम ऐसी घटनाओं के बारे में अब भी सुनते हैं. लेकिन अब आरोपियों को 3 दिन, 7 दिन, 11 दिन और एक महीने में फांसी पर लटका दिया जाता है. बेटियों को न्याय दिलाने के लिए हमारे सरकार ने लगातार प्रयास किये हैं और इसके नतीजे सबके सामने हैं.”

3 दिन में फांसी

ANI का ट्वीट

एएनआई के इस ट्वीट के आधार पर मोदी पर निशाना साझा जा रहा है और लोग उन्हें झूठा बता रहे हैं. आम लोगों के अलावा जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, सिंगर विशाल डडलानी, कांग्रेस नेता शमा मोहम्मद समेत कई अन्य बड़े नेताओं और नामी पत्रकारों ने भी इस ट्वीट को री-ट्वीट किया है.

कई जगह मोदी के भाषण का छोटा वीडियो भी शेयर किया जा रहा है जिसमें उन्हें ‘3 दिन, 7 दिन, 11 दिन और एक महीने में फांसी’ कहते सुना जा सकता है.

हमने जब इन दावों की पड़ताल की तो इन्हें झूठा पाया. दरअसल, ये भ्रम मोदी के हिंदी के भाषण को अंग्रेजी में ट्रांसलेट करके ट्वीट करने के कारण पैदा हुआ है. हिंदी से अंग्रेजी में ट्रांसलेशन करते वक्त एएनआई से गलती हो गई.

पढ़ें- क्या राजीव गांधी इंदिरा गांधी के शव के पास खड़े होकर कलमा पढ़ रहे थे?

असल में सूरत की रैली में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था, “इस देश में बलात्कार पहले भी होते थे, समाज की इस बुराई, कलंक ऐसा है कि आज भी उस घटनाओं को सुनने को मिलता है, माथा शर्म से झुक जाता है, दर्द होता है. लेकिन आज 3 दिन में फांसी, 7 दिन में फांसी, 11 दिन में फांसी, 1 महीने में फांसी. लगातार उन बेटियों को न्याय दिलाने के लिए एक के बाद एक क़दम उठाये जा रहे हैं, और नतीजे नज़र आ रहे हैं, लेकिन देश का दुर्भाग्य है कि बलात्कार की घटना तो सात दिन तक टीवी पर चलाई जाती है, लेकिन फांसी की सज़ा की ख़बर आ करके चली जाती है, फांसी की ख़बर जितनी ज़्यादा फैलेगी, उतनी बलात्कार करने की विकृति लेकर के बैठा हुआ आदमी भी डरेगा, पचास बार सोचेगा.”

यूट्यूब पर उपलब्ध प्रधानमंत्री मोदी के भाषण में सुना जा सकता है कि उन्होंने अपने भाषण में आरोपियों को जल्द सजा सुनाए जाने की बात कही है, ना कि फांसी पर लटकाए जाने की. हमारी पड़ताल में यह दावा गलत पाया गया कि प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उनके राज में रेप के आरोपियों को 3 दिन से एक महीने के अंदर फांसी की सजा हो जाती है.

पढ़ें- FACT CHECK: क्या भीम आर्मी के चंंद्रशेखर आजाद ने ‘भारत को जलाने’ की बात कही थी?

उनके भाषण का पूरा वीडियो यू-ट्यूब पर देखा जा सकता है जिसे सुनकर समझ आता है कि पीएम मोदी बलात्कार के आरोपियों को जल्द से जल्द फांसी की सज़ा सुनाए जाने की बात कर रहे थे, उन्हें फांसी पर लटकाए जाने की नहीं.

पढ़ें- फर्जी ट्विटर हैंडल के फेर में फंसे फिल्म डायरेक्टर अविनाश दास, शेयर की फेक न्यूज

पढ़ें- नौकरियां देने में फेल हुई मोदी सरकार, बेरोजगारी दर 45 साल के उच्चतम स्तर पर

पढ़ें- क्या राहुल गांधी ने राफेल से जुड़ा सवाल पूछने पर पत्रकार को धक्का देकर गिराया था?

Posted in Fact Check and tagged , , , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *