निधि राजदान

क्या भविष्य की अमित मालवीय हैं दिव्या स्पंदना, निधि राजदान पर किए गए भद्दे कमेंट से तो यही लगता है

कांग्रेस पार्टी की सोशल मीडिया सेल की प्रमुख दिव्या स्पंदना एक बार फिर अपने ट्वीट के चलते विवादों में फंसती दिख रही हैं. दिव्या ने गुरुवार को पीएम मोदी की स्टैचू ऑफ यूनिटी के साथ एक फोटो शेयर की. इस फोटो में पीएम मोदी सरदार पटेल की मूर्ति के पैर के पास खड़े हैं. इस फोटो के साथ दिव्या ने लिखा, ‘Is that bird dropping?’ इस ट्वीट को लेकर उनकी आलोचना हो रही है. इस ट्वीट को आप नीचे देख सकते हैं-

दिव्या के इस ट्वीट को लेकर कई लोगों ने सवाल उठाए थे. इसके बाद दिव्या ने एक ट्वीट और किया. इसमें उन्होंने लिखा कि मेर विचार मेरे हैं. मैं अपनी बात का स्पष्टीकरण नहीं दूंगी. नीचे देखिये यह ट्वीट-

दिव्या के इस सवाल पर वरिष्ठ पत्रकार निधि राजदान ने सवाल उठाए. निधि ने लिखा कि आप सार्वजनिक जीवन रहते हुए आप यह पोजीशन नहीं ले सकते. आप एक राजनीतिक दल से संबंध रखते हैं इसलिए लोगों का यह जानने का हक है कि आपके कहे का मतलब क्या है?

निधि राजदान के इस ट्वीट का दिव्या ने जवाब दिया. उन्होंने लिखा, ‘Not my circus, not my monkeys.’

इसके बाद निधि ने दिव्या से सवाल पूछा कि क्या आपने भारत के वोटर्स को मंकी बुलाया है?

इसके बाद दिव्या ने निधि राजदान को जवाब देते हुए लिखा कि श्रीनगर घूमकर आइए. आपको अच्छा लगेगा.

इसके बाद निधि राजदान ने कहा काश मैं जा पाती, लेकिन मेरे पास करने को काम हैं. मुझे लगता है आपको जाना चाहिए. कश्मीर की ताजा हवा आपको अच्छी लगेगी.

क्या दिव्या ने निधि के कथित अफेयर का हवाला देकर उन्हें चुप कराने की कोशिश की?

इस बातचीत के दौरान दिव्या ने निधि से कहा कि आप श्रीनगर घूमकर आइए. इसका सीधा इशारा जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुला के साथ निधि के कथित अफेयर की ओर था. यह एक शर्मनाक ट्वीट था. इसमें देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस की सोशल मीडिया हेड एक पत्रकार को कथित अफेयर की बात कहकर चुप कराने की कोशिश कर रही है. दोनों के बीच बातचीत बेहद जरूरी और प्रोफेशनल मोर्चे पर हो रही थी, लेकिन दिव्या बीच में तंज कसते हुए पर्सनल हो गई. एक तरफ जहां देशभर में #MeToo के तहत महिलाओं को आवाज उठाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है वहीं दिव्या कथित अफेयर को लेकर निधि पर तंज कस रही हैं.

DD के कैमरामैन की हत्या के बाद नक्सलियों ने लिखी मीडिया के नाम चिट्ठी

बीजेपी आईटी सेल की तर्ज पर कांग्रेस?

बीजेपी आईटी सेल पर लोगों पर नेताओं पर पर्सनल हमले करने के आरोप लगते आए हैं. अब यही काम कांग्रेस की सोशल मीडिया सेल कर रही है. बल्कि इस काम की शुरुआत सोशल मीडिया हेड ही कर रही है. अब कांग्रेस सत्ता में नहीं है, लेकिन पत्रकारों को चुप कराने के लिए कांग्रेस भी बीजेपी के रास्ते पर चल पड़ी है, जो इस वक्त देश पर राज कर रही है. ऐसे में यह सवाल उठता है कि कांग्रेस सत्ता में आने के बाद पत्रकारों से कैसा व्यवहार करेगी? साथ ही यह सवाल भी उठ रहा है कि क्या कांग्रेस की दिव्या स्पंदना अब बीजेपी आईटी सेल के हेड अमित मालवीय की राह पर निकल पड़ी है? क्या दिव्या स्पंदना अगली अमित मालवीय बनने जा रही हैं?

हालांकि, इस पूरी बातचीत के दौरान निधि ने बेहद संयम बनाए रखा. उन्होंने हर सवाल का संयम के साथ जवाब दिया और दिव्या की तरह पर्सनल मामलों पर नहीं उलझी. एक पत्रकार होने के नाते निधि राजदान का फर्ज था कि वो देश की मुख्य विपक्षी पार्टी की नेता से सवाल करें. उनकी बात का मतलब पूछे. निधि ने यही किया, लेकिन दिव्या बजाय जवाब देने के कथित अफेयर की बातें करने लगीं. यह ना सिर्फ एक पत्रकार को चुप कराने की कोशिश है बल्कि अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ना भी है.

FACT CHECK : क्या पीएम मोदी ने कहा था कि नेहरू सरदार पटेल की अंतिम यात्रा में नहीं गए थे?

क्या आपको पता है ‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ के अंदर 2 IIT, 5 IIM और 6 ISRO समाए हुए हैं!

 

Posted in Feature, Social Media and tagged , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *