राजनीतिक विज्ञापनों

फेसबुक ने कहा, आने वाले चुनावों के लिए राजनीतिक विज्ञापनों के नियम कड़े होंगे

फेसबुक ने बुधवार को कहा कि वह भारत जैसे देशों में जहां आम चुनाव होने वाले हैं राजनीतिक विज्ञापनों के लिये नियम कड़े करेगा. कंपनी ने कहा है कि अमेरिका, ब्रिटेन और ब्राजील में राजनीतिक विज्ञापनों में पारदर्शिता लाने के उसके प्रयास पहले से ही चल रहे हैं. भारत में अप्रैल-मई के आसपास चुनाव हो सकते हैं.

फेसबुक ने राजनीतिक मामलों में एक के बाद एक गड़बड़ियां और घोटाले सामने आने के बाद नियमों में सख्ती की बात की है.

फेसबुक ने अपनी एक पोस्ट में कहा, ‘इस साल दुनिया भर में कई जगह आम चुनावों की तैयारियां चल रही हैं. हम बाहरी हस्तक्षेप को रोकने पर लगातार ध्यान दे रहे हैं. हमारे प्लेटफार्म पर जो भी विज्ञापन होगा उसमें लोगों को अधिक सूचना दी जाएगी.’ कंपनी ने कहा है कि वह भारत में एक विज्ञापन लाइब्रेरी शुरू करेगी और आम चुनावों से पहले विज्ञापनों की पुष्टि का नियम लागू कर देगी.

राजनीतिक विज्ञापनों

सांकेतिक तस्वीर

फेसबुक का कहना है कि अमेरिका, ब्रिटेन और ब्राजील में राजनीतिक विज्ञापन देने वालों को विज्ञापन जारी होने से पहले अपनी पूरी पहचान और स्थान के बारे में जानकारी देना अनिवार्य है. कंपनी ने कहा कि नाइजीरिया और उक्रेन में कोई भी विदेशी चुनावी विज्ञापन स्वीकार नहीं किया जाएगा.

पढ़ें- अमेरिका में व्हाइट हाउस के सामने बंटे राष्ट्रपति ट्रंप के इस्तीफे की खबर वाले फर्जी अखबार

बता दें कि फेसबुक ने पिछले साल इस बात को स्वीकार किया था कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए काम करने वाले राजनीतिक क्षेत्र की कंपनी केंब्रिज एनालिटिका ने उसके लाखों उपयोगकर्ताओं से जुड़ी जानकारी को चुरा लिया था. ब्रिटेन में ब्रेक्जिट की आलोचना करने वाले लोगों का भी कहना है कि कैंब्रिज एनालिटिका ने चुराये गए इन आंकड़ों को इस्तेमाल यूरोपीय संघ को छोड़ने के लिए मतदान करवाने के लिए किया.

पढ़ें- जानें क्या है खदान में फंसे मेघालय के कोयला मजदूरों का पूरा मामला

पढ़ें- क्या पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने मोदी से कहा था, एक दिन विरोधी आपके काम से डरेंगे?

पढ़ें- क्या है इलाहाबाद के कुंभ मेले की जगमगाती तस्वीर का सच?

Posted in Media and tagged , , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *