क्या पश्चिम बंगाल में छात्र की जय श्री राम बोलने पर चमड़ी उधेड़ी?

सोशल मीडिया को ज्यादा से ज्यादा लोगों को जोड़ने वाले प्लेफॉर्म के तौर पर पेश किया गया था. लेकिन आज यही सोशल मीडिया लोगों को जोड़ने का कम और तोड़ने का काम ज्यादा कर रहा है. सोशल मीडिया पर अक्सर ऐसी तस्वीरें, खबर और वीडियो वायरल होते रहते हैं, जो दो समुदाय को एक-दूसरे के खिलाफ भड़काने का काम करते हैं. ऐसी ही एक तस्वीर इन दिनों तमाम दक्षिणपंथी फेसबुक पेजों पर वायरल हो रही है. इसमें पश्चिम बंगाल को पाकिस्तान और बांग्लादेश के तौर पर पेश किया गया है. ‘Phir Ek Baar Modi Sarkar’ फेसबुक पेज पर शेयर की गई इस तस्वीर में पश्चिम बंगाल में हुए एक मामले का जिक्र किया गया है, जिसके अनुसार एक स्कूल के हेडमास्टर रफीकुल आलम पर एक हिंदू छात्र की जय श्री राम बोलने पर चमड़ी उधेड़ी.

जय श्री राम बोलने पर चमड़ी उधेड़ी

Source- Facebook Page Phir Ek Baar Modi Sarkar

खबर लिखे जानें तक इस पोस्ट को 5912 बार शेयर किया जा चुका है. वायरल तस्वीर के अनुसार, छात्र ने अस्सलाम वालेकुम की जगह जय श्री राम कह कर संबोधन किया था, इसी वजह से हेड मास्टर ने उसकी पिटाई की. इसके साथ ही तस्वीर में लिखा है कि पश्चिम बंगाल में हर मुस्लिम इलाके में हिंदुओं पर अत्याचार हो रहा है. तस्वीर में पूछा गया है कि अब संविधान खतरे में है और असहनशीलता की बात करने वाले दोगले सेक्युलर.

पढ़ें- Viral picture: राहुल गांधी की इस तस्वीर के पीछे लगे फ़्रेम में महात्मा गांधी थे या औरंगज़ेब?

जब हमने इस खबर की जांच की तो किसी भी बड़े मीडिया संस्थान की वेबसाइट पर हमें यह खबर नहीं मिली. ‘Struggle for Hindu Existence’ नामक वेबसाइट पर जरूर इससे संबंधित खबर जरूर मिली, लेकिन इसे एक विश्वसनीय सूत्र नहीं माना जा सकता. इस वेबसाइट पर प्रकाशित खबर के अनुसार मामला मुर्शिदाबाद जिले का है. शक्तिपुर कुमार महिमचंद्र इंस्टीट्यूट के शोवान नामक छात्र ने साथी मुस्लिम छात्रों को जब जय श्री राम कहने संबोधित किया तो हिंदू और मुस्लिम छात्रों में झड़प हो गई. मामला जब हेड मास्टर के पास पहुंचा तो उन्होंने शोवान को खूब पीटा और अब शोवान अस्पताल में भर्ती है.

पढ़ें- हिंदुओं से नफरत करती हैं सोनिया गांधी- क्या है प्रणब मुखर्जी के इस बयान का सच?

हालांकि तस्वीर और वेबसाइट की खबर में हेड मास्टर के नाम को अलग लिखा हुआ है. जहां तस्वीर में हेड मास्टर का नाम रफीकुल आलम लिखा हुआ है, वहीं वेबसाइट पर हेड मास्टर का नाम अफीकुल आलम लिखा हुआ है. हमारी टीम किसी भी अन्य स्त्रोत या तरीके से खबर की सत्यता नहीं जांच पाए. खबर केवल एक वेबसाइट पर मिली, जो खुद ही हिंदु हितैषी होने का दावा करती है. ऐसे में बहुत अधिक संभावना है कि खबर को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया है. अभी तक की जांच में ऐसा कोई विश्वसनीय सूत्र नहीं मिला जिससे खबर सच साबित हो सके. खबर को हिंदू-मुस्लिम में दरार पैदा करने की मंशा से वायरल किया जा रहा है.

पढ़ें-  शेयर हो रहा है आरक्षण पर RSS प्रमुख मोहन भागवत का यह बयान, जानिये असलियत

पढ़ें-  क्या सैफ अली खान ने कहा कि भारत में सरकार की आलोचना करने पर हत्या भी हो सकती है?

पढ़ें-  सैनिकों के नाम पर अगर आपने भी ये तस्वीरें शेयर की हैं, तो आप हुए हैं फेक न्यूज़ का शिकार

Posted in Fact Check and tagged , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *