जिस ओडिशा की सड़क के लिए हो रही पीएम मोदी की वाहवाही, वह इंडोनेशिया की है…

ओडिशा की सड़क के लिए सोशल मीडिया पर हो रही पीएम मोदी की तारीफें, जानें पूरी सच्चाई

सोशल मीडिया पर एक नई सड़क की तस्वीर वायरल हो रही है, जिसे ओडिशा के एक गांव की बताया जा रहा है. तस्वीर में दिख रहा है कि कैसे लोगों ने नई सड़क का निर्माण होने पर सम्मान के तौर पर अपनी चप्पलें नीचे ही उतार दी हैं. कहा जा रहा है कि गांववालों ने कभी सड़क का मुंह नहीं देखा, इसलिए नई सड़क के निर्माण पर वह चप्पल पहन कर उस पर नहीं चल रहे हैं. नई सड़क के निर्माण और विकास कार्य के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी जा रही है.

सुरेश पटेल उर्फ सारंग नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा है, ‘देश आजाद होने के 72 साल बाद भी विकास का मजाक उड़ाने वाले चमचों और गुलामों को समर्पित पोस्ट. ओडीसा के एक गांव में जब पहली बार पक्की सड़क बनी तो इन मासूम बच्चों ने सम्मान में चप्पल भी उतार दी.’

जब हमने इस तस्वीर की जांच की तो पाया कि इसका भारत और ओडिशा से कुछ लेना-देना नहीं है. यह तस्वीर भारत की नहीं बल्कि इंडोनेशिया की है. नवंबर में ही फेक न्यूज के खिलाफ काम करने वाली वेबसाइट ऑल्ट न्यूज ने इस वायरल तस्वीर की सच्चाई बताई थी.

पढ़ें- जानिये, लोग क्यों फैलाते हैं फेक न्यूज, सामने आई यह बड़ी वजह

ओडिशा की सड़क

29 नवंबर को पवन दुरानी नामक यूजर ने यह तस्वीर शेयर करते हुए इसे ओडिशा की सड़क बताया था, जिसके जबाव में ऑल्ट न्यूज ने तस्वीर की पड़ताल की. पड़ताल में सामने आया कि यह तस्वीर इंडोनेशिया के एक गांव की है, जहां लोगों ने पहली बार सड़क देखी है. The Quebec Times नामक वेबसाइट ने 15 अक्टूबर 2018 को इस तस्वीर को अपनी वेबसाइट पर प्रयोग किया था.

पढ़ें- क्या राहुल गांधी ने यह कहा है कि वे वोट बैंक के लिए नकली हिंदू बने हैं?

ओडिशा की सड़क

Credit- Alt News

हालांकि इससे पहले भी एक इंडोनेशियन वेबसाइट ने 27 अगस्त 2018 को इस तस्वीर का प्रयोग किया था. इससे साफ होता है कि इस तस्वीर को ओडिशा की बताने वाला दावा गलत है. सोशल मीडिया पर इस तस्वीर के ओडिशा की सड़क होने के दावे फर्जी हैं.

पढ़ें- ‘नोटबंदी से देश के किसानों को हुआ नुकसान’

पढ़ें- क्या कांग्रेस IT हेड ने कहा, नेहरू ना होते तो सरदार पटेल को कोई सरकारी चपरासी की नौकरी भी नहीं देता?

पढ़ें- लोकसभा एंकर जागृति शुक्ला ने एक बार फिर कही कश्मीर में नरसंहार की बात

Posted in Fake News and tagged , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *