The Quint पर आयकर विभाग का छापा

The Quint पर आयकर विभाग का छापा, मीडिया जगत ने एक सुर में की मोदी सरकार की निंदा

The Quint पर आयकर विभाग का छापा. वरिष्ठ पत्रकार और न्यूज पोर्टल The Quint के मालिक राघव बहल के घर और ऑफिस पर आयकर विभाग ने छापेमारी की. आयकर विभाग की यह कार्रवाई टैक्स चोरी की आशंका पर हुई. आयकर विभाग की टीम टैक्स से जुड़े दस्तावेजों को खंगालने के मकसद से उनके घर और दफ्तर पर पहुंची. जांच अधिकारियों का कहना है कि संबंधित जांच टैक्स नियमों का पालन न करने के संबंध में की जा रही है. अधिकारियों ने कहा है कि कई और कारोबारियों की भी जांच की जा रही है.

राघव बहल का बयान

इस छापेमारी के तुरंत बाद राघव बहल का बयान सामने आया. उन्होंने एडिटर्स गिल्ड को लिखे अपने बयान में कहा है कि मैं गिल्ड को इस चिंताजनक स्थिति के बारे में बताना चाहता हूं कि मेरे घर और The Quint के दफ्तर में आयकर विभाग के दर्जनों अधिकारी ‘सर्वे’ के लिए आ घुसे. इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि हम नियम से टैक्स भरने वाले संस्थान हैं. हम सभी उचित वित्तीय कागजात जांच के लिए पेश करेंगे.

The Quint पर आयकर विभाग का छापा

राघव बहल ने कहा कि उन्होंने अपने घर में आए आयकर अधिकारी से कड़े शब्दों में कहा कि उनके घर से पत्रकारिता से संबंधित कोई भी दस्तावेज लेने या किसी ई-मेल को देखने की कोशिश न की जाए. उन्होंने कहा कि अगर ऐसा किया गया तो इसके खिलाफ जरूरी कदम उठाए जाएंगे. बहल ने उम्मीद जताई कि इस मामले में एडिटर्स गिल्ड उनका साथ देगा और इससे भविष्य में किसी भी मीडिया संस्थान के खिलाफ होने वाली ऐसी कार्रवाई के खिलाफ एकजुट होने की मिसाल पेश की जा सकेगी. देखिये उनका बयान-

The Quint पर आयकर विभाग का छापा , क्या रही बड़े नामों की प्रतिक्रिया

इस छापेमारी के बाद कई दिग्गज नाम क्विंट के समर्थन में उतर आए. आइए देखते हैं कि क्विंट पर इस छापेमारी के बाद मीडिया और दूसरे क्षेत्रों की बड़ी हस्तियों की क्या प्रतिक्रिया रही.

एडिटर्स गिल्ड ने इस कार्रवाई पर बयान जारी किया है. गिल्ड ने लिखा, ‘हालांकि टैक्स अधिकारियों को ये हक़ है कि वो इससे संबंधित नियमों के पालन को लेकर पूछताछ कर सकते हैं, इन अधिकारों का इस्तेमाल इस तरह नहीं किया जाना चाहिए कि लगे कि ये सरकार के आलोचकों को धमकाने की कोशिश का हिस्सा है.’

द क्विंट से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार संजय पुगलिया ने लिखा कि क्विंट की स्वतंत्र और निर्भिक पत्रकारिता की वजह से यह कार्रवाई की गई है.

वरिष्ठ पत्रकार शेखर गुप्ता ने इस छापेमारी को गंभीर चिंता का विषय बताते हुए लिखा कि सरकार को इसकी वजह बतानी चाहिए.

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने इसे सरकार की आलोचना वाली रिपोर्टिंग से जोड़कर देखा है.

योगेंद्र यादव ने लिखा कि अगर आप पिछले कुछ समय के राघव बहल के आर्टिकल पढ़ेंगे तो समझ जाएंगे कि यह छापेमारी क्यों हुई हैं और वो कहते हैं कि इमरजेंसी नहीं है.

पत्रकारों के लिए काम करने वाली संस्था कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट ने इस छापेमारी की पत्रकारिता की आजादी पर हमला बताया है.

कांग्रेस पार्टी ने ट्वीट कर लिखा कि मोदी सरकार प्रेस की आजादी को दबाने के लिए सीबीआई और ईडी का इस्तेमाल कर रही है.

वरिष्ठ पत्रकार परंजॉय गुहा ठाकुरता ने भी इस मामले पर ट्वीट किया है.

जाने-माने वकील और समाजसेवी प्रशांत भूषण ने लिखा कि सरकार की आलोचना की वजह से The Quint पर छापेमारी की जा रही है.

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने इस छापेमारी को एमजे अकबर पर लगे आरोपों से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए की गई कार्रवाई बताया है.

अकबर की ख़बर रोको, आयकर छापे की लाओ, कुछ करो,जल्दी भटकाओआप अकबर की ख़बर को लेकर फेसबुक पोस्ट और यू ट्यूब वीडियो को…

Posted by Ravish Kumar on Wednesday, October 10, 2018

दलित चिंतक दिलीप सी मंडल ने भी आयकर विभाग की इस कार्रवाई को सरकार की आलोचना से जोड़कर देखा है.

आरोप है कि इस छापेमारी के दौरान आयकर अधिकारियों ने द क्विंट की कॉ-फाउंडर रितु कपूर के गैजेट से डेटा लेने की कोशिश की.

द क्विंट के साथ-साथ द न्यूजमिनट के ऑफिस पर छापेमारी की गई है.

सरकार का पक्ष

इस मामले में सरकार की तरफ से कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बयान दिया है. एनडीटीवी की एक खबर के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मुझे देखना पड़ेगा कि वह कौन सा मीडिया हाउस है. उसका कारण क्या है मुझे नहीं मालुम. मेरे ख्याल में हम लोकतंत्र की आज़ादी के पूरे पूरे पक्षधर हैं. हम लोगों ने एमरजेंसी का विरोध किया था. आज लोकतंत्र में मीडिया को आलोचना का पूरा अधिकार है. वो प्रधानमंत्री और सारे वरिष्ठ मंत्रियों की आलोचना करते हैं और सवाल पूछते हैं लेकिन अगर किसी मीडिया हाउस ने कोई भ्रष्टाचार किया है उसकी जवाबदेही होगी. लेकिन मुझे तथ्यों की जानकारी लेनी होगी.

कौन है राघव बहल

The Quint पर आयकर विभाग का छापा

राघव बहल को मीडिया में दो दशक से ज्यादा का अनुभव है. राघव 1985 में दूरदर्शन के एंकर और रिपोर्टर बने और यहीं से मीडिया की दुनिया से उनका जुड़ाव गहरा होता गया. बाद में टीवी 18 कंपनी बनाई. 1999 में उन्होंने CNBC-TV18 चैनल लॉन्च किया. 2012 में रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी ने कंपनी में बड़े पैमाने पर निवेश किया. फिर कंपनी में रिलायंस की हिस्सेदारी बढ़ गई. आखिरकार राघव बहल ने नेटवर्क 18 के मैनेजिंग डायरेक्टर पद पर जुलाई 2014 में इस्तीफा दे दिया. दरअसल उस वक्त रिलायंस ग्रुप ने नेटवर्क 18 का अधिग्रहण कर लिया था. इसके बाद पत्नी ऋतु कपूर के साथ मिलकर उन्होंने Quintillion Media ग्रुप की स्थापना कर डिजिटल स्टार्टअप The Quint शुरू किया. राघव वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम के सदस्य भी हैं.

ये भी पढ़ें-

जिसकी हर जगह चर्चा है वो #MeToo क्या है? आसान भाषा में जानिये इससे जुड़ी सारी बातें

विवेक तिवारी हत्याकांड : विवेक और सना को बदनाम करने के लिए वायरल की जा रही फर्जी अश्लील तस्वीर

 

 

Posted in Media and tagged , , , , , , , , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *