क्या जर्मनी में सरकारी कार्यक्रमों में मांस पर बैन है?

FACT CHECK : इस बात में कितनी सच्चाई है कि जर्मनी में सरकारी कार्यक्रमों में मांस पर बैन है?

क्या जर्मनी में सरकारी कार्यक्रमों में मांस पर बैन है? सोशल मीडिया पर एक न्यूज वायरल हो रही है जिसमें कहा गया है कि जर्मनी ने अपने सार्वजनिक कार्यक्रमों में मांस परोसने पर रोक लगा दी है. आरबीआई के पार्ट टाइम डायरेक्टर और अपने ट्वीट्स से सुर्खियों में रहने वाले एस गुरुमूर्ति ने भी इस खबर को शेयर किया है. उन्होंने लिखा कि यह जरूर मोदी के जरिए आरएसएस की अंतरराष्ट्रीय साजिश है. लिबरल और सेक्युलर लोगों को अब जर्मनी लिबरल जर्मनी को निशाना बनाना चाहिए. देखिये उनका यह ट्वीट-

क्या जर्मनी में सरकारी कार्यक्रमों में मांस पर बैन है?

जब हमने एस गुरुमूर्ति के इस ट्वीट में दी गई न्यूज की पड़ताल की तो इसकी सच्चाई सामने आई. हमारी पड़ताल में पता चला कि यह सही बात है कि जर्मनी ने अपने सरकारी समारोह में मांस परोसने पर रोक लगा दी है. हमने जब इसके लिए गूगल किया तो हमें हफिंगटन पोस्ट की एक खबर मिली. यह खबर 23 फरवरी 2017 को पब्लिश हुई थी. इसका मतलब कि जर्मनी में सरकारी कार्यक्रमों में मांस पर प्रतिबंध फरवरी 2017 में लगाया गया था.

सीबीआई में छिड़ी जंग के बारे में वो सब बातें जो आप जानना चाहते हैं

सरकारी कार्यक्रमों में मांस पर लगे बैन के बाद जानवरों के लिए काम करने वाली संस्था पेटा (पीपल फॉर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स) ने भारत सरकार से भी सरकारी कार्यक्रमों में मांस पर बैन लगाने की मांग की थी. हालांकि भारत में ऐसा कोई बैन नहीं लगा है.

सच

हमारी पड़ताल में जर्मनी में सरकारी कार्यक्रमों में मांस पर बैन लगाने की खबर सच साबित होती है. जर्मनी में पिछले साल यह बैन लग चुका है. अब एक बार फिर सोशल मीडिया पर यह खबर वायरल हो रही है.

ये भी पढ़ें-

दिल्ली के विधायक ने शेयर की नेहरु की ये फोटो, यहां जानिये सच्चाई

सबरीमाला में महिलाओं की एंट्री के सवाल पर बोलीं स्मृति- पीरियड्स के खून से सने पैड लेकर मंदिर में क्यों जाना!

क्या नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने कहा था, RSS और हिंदू महासभा गद्दार हैं?

Posted in Fact Check and tagged , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *