कौन था एनकाउंटर में मारा गया आतंकी मन्नन वानी

जानिये, कौन था एनकाउंटर में मारा गया आतंकी मन्नन वानी?

कौन था एनकाउंटर में मारा गया आतंकी मन्नन वानी? स्कूल में एक बेहतरीन स्टूडेंट से कश्मीर का मोस्ट वांटेड आतंकवादी बना मन्नन बशीर वानी उन पढ़े-लिखे युवाओं में शामिल है जो 2016 के बाद घाटी में आतंकवादी संगठनों में शामिल हुए. वानी को सुरक्षा बलों ने बीते गुरुवार को एक एनकाउंटर में मार गिराया. अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में पीएचडी का छात्र वानी इस साल जनवरी में आतंकवादी संगठन में शामिल हुआ था.

कौन था एनकाउंटर में मारा गया आतंकी मन्नन वानी

Image Source- Google

पढ़ाई के दौरान मिले कई पुरस्कार

सुरक्षा एजेंसियों द्वारा जुटाई जानकारी के अनुसार वानी शुरू से एक प्रतिभाशाली छात्र था, उसने मानसबल स्थित एक प्रतिष्ठित सैनिक स्कूल से 11वीं और 12वीं की पढ़ाई की थी. वानी को पढ़ाई के दौरान कई पुरस्कार भी मिले. घाटी में वर्ष 2010 में हुए विरोध प्रदर्शनों और हिजबुल मुजाहिद्दीन के पोस्टर ब्वाय बुरहान वानी की मौत के बाद वर्ष 2016 में हुए व्यापक प्रदर्शन से उसका कोई नाता नहीं था.

‘गंगापुत्र’ जीडी अग्रवाल का भूख हड़ताल से निधन- जानें, क्यों वायरल हुआ PM मोदी का पुराना ट्वीट

उसके आतंकी संगठन में शामिल होने की बात तब सामने आई जब बाबा गुलाम शाह बदशाह विश्वविद्यालय के बी.टेक के छात्र ईसा फजली जैसे दूसरे युवकों के आतंकवादी समूह में शामिल होने का पता चला. वानी के बाद, तहरीक-ए-हुर्रियत के अध्यक्ष मोहम्मद अशरफ सेहराई का बेटा एवं एमबीए का छात्र जुनैद अशरफ सहराई भी आतंकवादी समूह में शामिल होने के लिए गायब हो गया था.

वानी का अपने पिता बशीर अहमद वानी से भी बहुत लगाव था. वानी के पिता कॉलेज लेक्चरर हैं. संभ्रांत परिवार से आने वाला वानी वर्ष 2011 से अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) से पढ़ाई कर रहा था जहां उसने एम फिल की पढ़ाई पूरी करने के बाद से पीएचडी में एडमिशन लिया था. आज भी कॉलेज की वेबसाइट पर उसे मिले पुरस्कारों के साथ नाम दर्ज है.

जिसकी हर जगह चर्चा है वो #MeToo क्या है? आसान भाषा में जानिये इससे जुड़ी सारी बातें

वानी के आतंकवादी बनने का सफर वर्ष 2017 के अंत में शुरू हुआ जब वह दक्षिण कश्मीर के कुछ छात्रों के संपर्क में आया. इस साल तीन जनवरी को उसने आतंकवादी संगठन का हिस्सा बनने के लिए अलीगढ़ छोड़ दिया था.

सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया

बता दें गुरुवार को सेना ने एक मुठभेड़ में हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर मन्नान वानी को मार गिराने में सफलता हासिल की थी. पुलिस को इस कमांडर के कुपवाड़ा में होने की सूचना मिली थी. इस पर सुरक्षाबलों ने सर्च ऑपरेशन चलाकर यह बड़ी कामयाबी हासिल की. सुरक्षा बल के सूत्रों के मुताबिक मन्नान वानी के परिजनों और दोस्तों ने कई बार उससे आतंक का रास्ता छोड़ने की अपील की थी, लेकिन वानी नहीं माना. वानी अपनी पढ़ाई और क्षमताओं का इस्तेमाल कश्मीर के युवाओं को आतंक के रास्ते पर बुलाने के लिए कर रहा था।.

ये भी पढ़ें

FACT CHECK : क्या केमिकल के इस्तेमाल की वजह से कतर में बाबा रामदेव के प्रोडक्ट बैन हो गए?

वायरल फोटो की पड़ताल सीरीज : राजनाथ सिंह के पैर छूते पुलिस अधिकारी वाली फोटो की असलियत

Posted in Fact Check and tagged , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *