गूगल ने यौन उत्पीड़न

#MeToo : गूगल ने यौन उत्पीड़न के आरोपों से घिरे 48 कर्मचारियों को निकाला

एक तरफ जहां भारत में #MeToo अभियान जोरों पर हैं, वहीं गूगल ने यौन उत्पीड़न के आरोपी 48 कर्मचारियों को कंपनी से निकाल दिया है. सभी पर पिछले दो सालों के दौरान उत्पीड़न के आरोप लगे थे. इनमें से 13 लोग सीनियर मैनेजर के पद पर थे. कंपनी के सीईओ सुंदर पिचई ने अपने कर्मचारियों के नाम लिखे एक पत्र में कहा कि कंपनी ने अनुचित आचरण के कारण अपने कर्मचारियों के खिलाफ यह कठोर कदम उठाया है.

गूगल ने यौन उत्पीड़न

पिचई ने यह पत्र ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ की एक रिपोर्ट के जवाब में लिखा, जिसमें कहा गया था कि एंड्रॉयड निर्माता एंडी रुबिन को उन पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों के बदले नौ करोड़ डॉलर का एक्जिट पैकेज देकर विदा किया गया था. एक अखबार में हालांकि रुबिन के प्रवक्ता सैम सिंगर ने इन आरोपों का खंडन किया था.

पिचई ने अपने पत्र में कहा कि गूगल अपने कर्मचारियों को एक सुरक्षित और समावेशी कार्यस्थल प्रदान करने को लेकर बहुत गंभीर है. हम आपको आश्वस्त करते हैं कि हम यौन उत्पीड़न या दुर्व्यवहार से जुड़ी शिकायतों पर गौर करते हैं और पूरी जांच कर कार्रवाई करते हैं. पिचई ने कहा कि पिछले दो वर्षों में कंपनी से निकाले गए कर्मचारियों में से किसी को भी एक्जिट पैकेज नहीं मिला था.

रवीश कुमार का ब्लॉग: अमेरिका में जर्नलिज़्म के पहले कॉलेज से क्या सीख सकता है भारत

रुबिन पर 2013 में एक महिला कर्मचारी ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था, जिसके बाद गूगल के तत्कालीन मुख्य कार्यकारी अधिकारी लैरी पेज ने उनसे इस्तीफा देने के लिए कहा था. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रुबिन को उन पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों के बदले 90 मिलियन डॉलर (लगभग 650 करोड़ रुपये) का पैकेज देकर हटाया गया था. अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक, रुबिन को एक बेहद ही शानदार विदाई दी गई थी। हालांकि, यह भी लिखा था कि रुबिन के एक प्रवक्ता ने यौन उत्पीड़न के इन आरोपों से इनकार किया है।

क्या है #MeToo

गूगल ने यौन उत्पीड़न

साल भर पहले दुनियाभर में चर्चा का विषय बना #MeToo अब भारत में दस्तक दे चुका है. भारत में बॉलीवुड, मीडिया जैसे क्षेत्रों से कई महिलाएं सामने आकर #MeToo के साथ अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न की बातें सामने रख रही हैं. भारत में बॉलीवुड, मीडिया से होता हुआ यह अभियान राजनीति तक पहुंच गया है.

किन आरोपों में गिरफ्तार हुए समाचार प्लस चैनल के CEO उमेश कुमार शर्मा

बॉलीवुड में सबसे पहले तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर पर यौन शोषण के आरोप लगाए. नाना के बाद बॉलीवुड में सिंगर कैलाश खेर, डायरेक्टर विकास बहल, एक्टर रजत कपूर, एक्टर आलोक नाथ जैसे बड़े नाम मीटू अभियान के साथ उजागर हुए हैं. इनके अलावा कॉमेडी ग्रुप एआईबी में काम करने वाले एक कॉमेडियन पर भी आरोप लगे हैं.

हैशटैग #मीटू (#Metoo) को टाइम पत्रिका ने ‘पर्सन ऑफ द ईयर 2017’ घोषित किया था. हैशटैग मीटू एक अभियान था, जो महिलाओं के साथ हुई यौन ज्यादतियों के खिलाफ शुरू किया गया था. इस अभियान में एक से बढ़कर एक महिलाओं ने अपने साथ हुई ज्यादती के बारे में खुलकर बताया था और लोगों से जागरूक होने की बात कही थी. उसके बाद से ये अभियान पूरी दुनिया में फैलता गया.

ये भी पढ़ें-

अपनी नन्हीं बेटी के साथ ड्यूटी करती महिला पुलिसकर्मी की वायरल फोटो को सच

क्या लालकृष्ण आडवाणी ने कहा है कि 2019 में राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनेंगे?

Posted in News and tagged , , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *