रवीश कुमार

रवीश कुमार का ब्लॉग: अमेरिका में जर्नलिज़्म के पहले कॉलेज से क्या सीख सकता है भारत

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार इन दिनों अमेरिका यात्रा पर हैं. वो अपने ब्लॉग और फेसबुक पोस्ट के माध्यम से हिंदी के पाठकों के लिए ऐसी-ऐसी जानकारियां लाते हैं जो हिंदी मीडिया में दूसरी जगहों पर देखने को नहीं मिलती. हाल ही में उन्होंने पत्रकारिता की पढ़ाई के लिए दुनियाभर में मशहूर कोलंबिया स्कूल ऑफ जर्नलिज्म के बारे में बताया है. रवीश अपनी पोस्ट में लिखते हैं-

‘कोलंबिया ज़र्नलिज्म स्कूल का एक सफ़र- 1912 में जब हम अपनी आज़ादी की लड़ाई की रूपरेखा बना रहे थे तब यहाँ न्यूयार्क में जोसेफ़ पुलित्ज़र कोलंबिया स्कूल ऑफ़ जर्नलिज़्म की स्थापना कर रहे थे। सुखद संयोग है कि 1913 में गणेश शंकर विद्यार्थी कानपुर में प्रताप की स्थापना कर रहे थे। तो ज़्यादा दुखी न हो लेकिन यह संस्थान पत्रकारिता की पढ़ाई के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। मोहम्मद अली, शिलादित्य और सिमरन के मार्फ़त हमने दुनिया के इस बेहतरीन संस्थान को देखा। यहाँ भारतीय छात्र भी हैं और अगर ज़रा सा प्रयास करेंगे तो आपके लिए भी दरवाज़े खुल सकते हैं। किसी भी प्रकार का भय न पालें बल्कि बेहतर ख़्वाब देखें और मेहनत करें।’

रवीश कुमार आगे लिखते हैं-

‘इसलिए बताया कि हमारे संस्थान गोशाला हो चुके हैं जहाँ एक ही नस्ल की गायें हैं। वहाँ न शिक्षकों में विविधता है न छात्रों में। और विषयों की विविधता क्या होगी आप समझ सकते हैं। IIMC के छात्र अपने यहाँ journalism of resistance का अलग से कोर्स शुरू करवा सकते हैं। यह नहीं हो सकता तो journalism of praising Modi शुरू करवा सकते हैं। यह भी एक विधा है और काफ़ी नौकरी है। लेकिन पहले जोसेफ़ पुलित्ज़र ने लोकतंत्र और पत्रकारिता के बारे में जो कहा है, वो कैसे ग़लत है, उस पर एक निबंध लिखें। फिर देखें कि क्या उनकी बातें सही हैं? कई बार दौर ऐसा आता है जब लोग बर्बादी पर गर्व करने लगते हैं। उस दौर का भी जश्न मना लेना चाहिए ताकि ख़ाक में मिल जाने का कोई अफ़सोस न रहे। वैसे भारत विश्व गुरु तो है ही!’

आप उनकी यह पोस्ट नीचे देख सकते हैं-

कोलंबिया ज़र्नलिज्म स्कूल का एक सफ़र 1912 में जब हम अपनी आज़ादी की लड़ाई की रूपरेखा बना रहे थे तब यहाँ न्यूयार्क में…

Posted by Ravish Kumar on Sunday, October 28, 2018

ये भी पढ़ें-

क्या कश्मीर में पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाई है? शेयर हो रहा वीडियो

क्या लालकृष्ण आडवाणी ने कहा है कि 2019 में राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनेंगे?

7 MP और 199 MLA ने नहीं दी अपने पैनकार्ड की जानकारी, कांग्रेसी विधायक सबसे ज्यादा

Posted in Social Media and tagged , , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *