मनोज तिवारी

सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन के मौके पर हंगामा, मनोज तिवारी पर हाथापाई का आरोप

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज सिग्नेचर ब्रिज (Signature Bridge) का उद्घाटन किया. उद्घाटन मौके से पहले दिल्ली से बीजेपी सांसद मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) ने मौके पर पहुंचकर विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान पुलिस और वहां मौजूद लोगों से उनकी झड़प हो गई. एएनआई के एक वीडियो में दिख रहा है कि मनोज तिवारी पुलिसवालों की तरफ मुक्का चला रहे हैं.

उद्घाटन के मौके पर अपने प्रशंसकों के साथ पहुंचे मनोज तिवारी ने हंगामा कर दिया. इस दौरान मनोज वाजपेयी भी पुलिस से भिड़ गए. उन्होंने कहा कि मैंने सिग्नेचर ब्रिज का काम दोबारा शुरू कराया था और अब केजरीवाल इसका उद्घाटन कर रहे हैं.

मनोज तिवारी ने कहा कि इलाके के सांसद होने के नाते मैं सिग्नेचर ब्रिज (Signature Bridge) पर आया हूं. बता दें कि जहां पर उद्घाटन है वहां से सांसद मनोज तिवारी हैं. मनोज तिवारी ने कहा कि मुझे उद्घाटन समारोह में आमंत्रित किया गया था. मैं यहां से सांसद हूं, तो समस्या क्या है? क्या मैं एक अपराधी हूं? उन्होंने कहा कि यहां अरविंद केजरीवाल का स्वागत करने के लिए हूं.

वहीं दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इस पूरे मामले पर टिप्पणी की है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन से मायूस कुछ खिसियानी बिल्लियां खम्बा नोंच रही हैं। इन्होंने सुपारी उठा रखी थी कि केजरीवाल सरकार के इस कार्यकाल में सिग्नेचर ब्रिज को पूरा नहीं होने देंगे।’

सिग्नेचर ब्रिज के बारे में कुछ बातें-

दिल्ली में सिग्नेचर ब्रिज (Signature Bridge) का काम पूरा हो गया है. 2004 में मंजूर हुआ यह यह ब्रिज लगभग 14 साल बाद बनकर तैयार हुआ है. इस ब्रिज को दिल्ली में 2010 में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए तैयार किया जाना था, लेकिन यह अब जाकर तैयार हुआ है. यह ब्रिज दिल्ली के वज़ीराबाद से गाज़ियाबाद की ओर जाने वाले लोगों के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा.

आम आदमी पार्टी ने सिग्नेचर ब्रिज के नाम पर शेयर की नीदरलैंड के ब्रिज की फोटो

अभी तक लगने वाले ट्रैफिक जाम से लोगों को राहत मिलेगी. 2004 में जब इस ब्रिज का प्रस्ताव आया था, तब इसकी लागत सिर्फ 464 करोड़ रुपये थी, जो बाद में लगातार बढ़ती चली गई. केजरीवाल सरकार ने इसके लिए 2017 में 100 करोड़ रुपये आवंटित किए थे और इसे मार्च 2018 तक बन तैयार होना था. लेकिन तकनीकी व दूसरे कारणों से इसमे समय लग गया.

ये भी पढ़ें-

राष्ट्रपति बनने के बाद अपने भाषणों में 6420 बार झूठ बोल चुके हैं डोनाल्ड ट्रंप

क्या भविष्य की अमित मालवीय हैं दिव्या स्पंदना, निधि राजदान पर किए गए भद्दे कमेंट से तो यही लगता है

DD के कैमरामैन की हत्या के बाद नक्सलियों ने लिखी मीडिया के नाम चिट्ठी

 

Posted in News and tagged , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *