भारतीय सैनिक

ALERT : शेयर हो रही है भारतीय सैनिक द्वारा कश्मीरी युवक के जूते चुराने की फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर बहुत झूठ फैला है. यहां पर रोजाना हजारों फेक न्यूज, फेक फोटो और वीडियो वायरल होती रहती है. हम इन फेक न्यूज, फोटो और वीडियो की सच्चाई लगातार आपके सामने रखते आ रहे हैं. हमारी इस सीरीज में आपको उन फेक फोटो की सच्चाई बताते हैं, जो थोड़े-थोड़े समय बाद वायरल होती रहती है. अगर आपके पास भी ऐसी कोई फोटो या वीडियो हो तो आप हमें भेज सकते हैं. हम उसकी सच्चाई भी आपको बताएंगे. हमारी इस सीरीज की आज की किस्त में हम आपको नीचे दी गई वायरल फोटो की सच्चाई बताने जा रहे हैं.

army man stealing shoes of kashmir youth*boot choor

Posted by Kashmir on Monday, October 22, 2018

फेसबुक पर इस फोटो खूब शेयर किया जा रहा है. इस फोटो में एक भारतीय सैनिक जूते ले जाता हुआ दिख रहा है. इस फोटो के कैप्शन में लिखा है, ‘After food shortage, Indian Army is running short of boots. An Indian Army personal stealing shoes of a Kashmiri youth.’ कई फेसबुक पेज पर इस फोटो को शेयर किया गया है. ये आप नीचे देख सकते हैं-

After food shortage, Indian Army is running short of boots. An Indian Army personal stealing shoes of a Kashmiri youth.

Posted by Britton Georgia on Saturday, September 15, 2018

क्या है भारतीय सैनिक की इस फोटो की सच्चाई

इस फोटो के जरिए ये दिखाने की कोशिश की जा रही है कि भारतीय सैनिक कश्मीरी युवक के जूते लेकर जा रहा है. लेकिन यह बात सच नहीं है. यह फोटो असली है, लेकिन इसके साथ किया जा रहा दावा झूठ है. फेक न्यूज की पोल खोलने वाली वेबसाइट Altnews.in ने इस फोटो की सच्चाई का पता लगाया है. Altnews के मुताबिक, यह फोटो 13 सितंबर 2018 की है. इस दिन भारतीय सेना ने सापोर में एक मुठभेड़ में दो घुसपैठियों को मार गिराया था.

वायरल फोटो की पड़ताल सीरीज : क्या रिक्शा खींचने वाली लड़की आईएएस है जो अपने पिता को रिक्शे में घूमा रही है

इस बारे में टेलीग्राफ पर छपी खबर आप यहां क्लिक कर पढ़ सकते हैं. फोटो में दिख रहा सैनिक उन्हीं घुसपैठियों के जूते लेकर जा रहा है. इन्हीं जूतों की फोटो एक कश्मीरी पत्रकार ने ट्वीट की थी. इस फोटो में घुसपैठियों के पास से बरामद सामान और जूते दिखाई दे रहे हैं. देखिये यह ट्वीट-

शेयर की जा रही फोटो में फोटोग्राफर पीरजादा वसीम का नाम लिखा है. खुद पीरजादा वसीम ने इस फोटो को ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा कि सैनिक मुठभेड़ में मारे गए घुसपैठिये के जूते ले जाता हुआ. उनका ट्वीट नीचे देखिये-

इसके अलावा पीरजादा ने Altnews से बात करते हुए बताया कि सोशल मीडिया पर इस फोटो को लेकर किया जा रहा जूते चोरी की बात झूठ है.

सच

फेसबुक पर शेयर हो रही फोटो के साथ झूठा दावा किया जा रहा है. यह सैनिक किसी कश्मीरी युवक के जूते चुराकर नहीं जा रहा है. जूते चोरी का दावा झूठ है. हम आपसे अपील करते हैं कि इस वायरल फेक पोस्ट पर भरोसा ना करें और ना ही इस पोस्ट को शेयर या फॉरवर्ड करें. सोशल मीडिया पर बहुत झूठ फैला है. इस झूठ से बचकर रहें.

ये भी पढ़ें-

सीबीआई में छिड़ी जंग के बारे में वो सब बातें जो आप जानना चाहते हैं

क्या सुधीर चौधरी का यह दावा सही है कि सुभाष चंद्र बोस भारत के पहले प्रधानमंत्री थे?

 

Posted in Fake News and tagged , , , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *