दूरदर्शन के मृत कैमरामैन

नक्सली हमला: सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में नजर आ रहे व्यक्ति दूरदर्शन के मृत कैमरामैन नहीं है

मंगलवार को बस्तर के दंतेवाडा में हुए नक्सली हमले में दो पुलिसकर्मियों समेत दूरदर्शन के कैमरामैन अच्युतानंद साहू की भी मौत हो गई थी. जिस समय यह हमला हुआ, दूरदर्शन की पत्रकारों की टीम सुरक्षाकर्मियों के साथ थी और इलाके में सरकार के विकास कार्यों की रिपोर्टिंग कर रही थी. टीम में दूरदर्शन के मृत कैमरामैन साहू के अलावा रिपोर्टर धीरज कुमार और सहायक कैमरामैन मोर मुकुट शर्मा शामिल थे.

साहू की मौत की खबर सामने आते ही सोशल मीडिया पर देशभर से गुस्से और भावुकता से भरे मैसेज शेयर होने लगे. देशभर के पत्रकारों ने नक्सली हमले में साहू की मौत पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. इसी बीच हमले का एक वीडियो भी जमकर शेयर हो रहा है, जिसे साहू के अंतिम पलों का वीडियो बताया जा रहा है.

इस वीडियो में कैद व्यक्ति को लग रहा है कि वह हमले में नहीं बच पाएगा और अपने अंतिम पलों में वह अपनी मां को याद कर रहा है. जंगल की जमीन पर लेटा हुए यह व्यक्ति कैमरे की ओर देखते हुए कह रहा है, ‘एक रास्ते से जा रहे थे, आर्मी हमारे साथ थी. अचानक घेर लिया है नक्सलियों ने. मम्मी अगर मैं जीवित बचा गनीमत है. मम्मी मैं तुझे बहुत प्यार करता हूं. हो सकता है कि इस हमले में मैं मारा जाऊं, परिस्थिति सही नहीं है. पता नहीं क्यों मौत को सामने देखते हुए डर नहीं लग रहा है. बचना मुश्किल है यहां पर. 6-7 जवान हैं साथ में, चारों ओर से घेर लिए हैं.’

इस वीडियो को सोशल मीडिया पर प्रतिष्ठित पत्रकारों समेत कई लोगों ने शेयर किया है और इसे साहू के अंतिम पलों का वीडियो बताया है. लोगों ने मौत के करीब होते हुए भी रिपोर्टिंग करने के लिए साहू के साहस की तारीफ की है. नवभारत टाइम्स के राजनीतिक रिपोर्टर नरेंद्र नाथ ने इसे अपने फेसबुक पर शेयर करते हुए साहू के साहस की तारीफ की और इसे उनकी अंतिम रिपोर्टिंग बताया.

दूरदर्शन के मृत कैमरामैन

इसके अलावा आजतक के पत्रकार विकास त्रिपाठी ने भी इसे साहू के अंतिम पल बताते हुए ट्वीट किया.

दूरदर्शन के मृत कैमरामैन

एक अन्य सोशल मीडिया यूजर ने भी इसे साहू का वीडियो बताया.

दूरदर्शन के मृत कैमरामैन

कई स्थापित पत्रकारों ने इसे साहू के अंतिम पलों का वीडियो बताते हुए सोशल मीडिया पर शेयर किया और संभावना है कि आपके पास भी सोशल मीडिया पर इससे संबंधित पोस्ट पढ़ी हो. लेकिन आपको बता दें कि यह अच्युतानंद साहू का वीडियो नहीं है. सोशल मीडिया पर शेयर हो रही ये जानकारी गलत है.

यह साहू की टीम के सदस्य और सहायक मोर मुकुट शर्मा का वीडियो है, जो उन्होंने घटना के समय रिकॉर्ड किया. राहत की बात ये है कि मोर मुकुट हमले में सुरक्षित हैं और अपनी मां से मिल सकते हैं. दरअसल, साहू के नाम पर ये वीडियो जानबूझ कर नहीं बल्कि गलतफहमी और भावनाओं में बहने के कारण शेयर हुआ है.

पढ़ें- नक्सलियों के हमले में कैमरामैन की मौत- युद्ध क्षेत्र में रिपोर्टिंग के खतरे और सावधानियां

नक्सल समस्या पर रिपोर्टिंग कर चुके पत्रकार और लेखक राहुल पंडित ने ये वीडियो 30 अक्टूबर रात 9.27 बजे ट्वीट करते हुए लिखा था, ‘जब पुलिस और दूरदर्शन की टीम पर नक्सली हमला हुआ तो डीडी के सहायक कैमरामैन ने अपनी मां के लिए एक संदेश रिकॉर्ड किया.’

इसके बाद उन्होंने आज फिर से साफ करते हुए लिखा कि यह वीडियो दूरदर्शन के मृत कैमरामैन साहू का नहीं है, जैसा कि सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है, बल्कि मोर मुकुट का है.

डीडी न्यूज ने भी आज यह वीडियो फेसबुक पर शेयर करते हुए साफ किया कि इसमें दिख रहे शख्स मोर मुकुट शर्मा हैं, दिवंगत कैमरामैन अच्युतानंद साहू नहीं. डीडी ने मोर मुकुट के साहस और बहादुरी को सलाम कहा है.

When death was close

He thought these were his last moments. But he survived….. #DDNews video journalist Mor Mukut Sharma shared his heart-wrenching ordeal as the dastardly #naxal attack in #Dantewada was underway. A salute to his bravery and courage even in the face of death

Posted by DDNewsLive on Wednesday, October 31, 2018

हमारी जांच में पाया गया है कि दूरदर्शन के मृत कैमरामैन अच्युतानंद साहू के नाम पर शेयर हो रहा वीडियो उनके सहायक मोर मुकुट शर्मा का है. वह सुरक्षित हैं और अपनी मां से मिल सकते हैं.

पढ़ें- नक्सलियों के हमले में बाल-बाल बचे दूरदर्शन के पत्रकार धीरज कुमार ने क्या कहा

पढ़ें- क्या है सरदार पटेल की प्रतिमा ‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ के पास बैठे गरीब और भूखे लोगों का सच?

पढ़ें- क्या लालकृष्ण आडवाणी ने कहा है कि 2019 में राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनेंगे?

Posted in Social Media and tagged , , , , , , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *