‘पीएम मोदी युवाओं को टी-शर्ट बांटेंगे’, अगर आपके पास भी ऐसा मैसेज आया है तो संभल जाइये

हमारी फैक्ट चेक को वाट्सऐप पर एक मैसेज मिला. इस मैसेज पीएम मोदी के नाम पर कुछ खबर लिखी है. इसमें लिखा था, ‘भारत के मुख्यमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने इस 26 जनवरी के अवसर पर अपने 133 करोड़ भारतवासी को फ्री टी-शर्ट उपहार में देने का वादा किया है तो अभी निचे नीली रंग के लिंक पर क्लिक करके अपना फॉर्म भरे और फ्री टी-शर्ट प्राप्त करे |
👉 http://bit.ly/indian-free-t-shirt
🙏 क्रप्या ध्यान दे: 🙏 फॉर्म भरने की अंतिम तिथि 22 जनवरी है और सबको टी शर्ट 26 जनवरी से पहले मिल जायेगा !’

हमने यह मैसेज हूबहू कॉपी किया है. इस मैसेज में दावा किया जा रहा है कि ‘भारत के मुख्यमंत्री’ नरेंद्र मोदी 26 जनवरी को फ्री में टी-शर्ट में दे रहे हैं. इस मैसेज का स्क्रीन शॉट नीचे दिया गया है.

पीएम मोदी

अगर आपके पास भी यह मैसेज आया है तो सावधान हो जाइये

वॉट्सऐप पर यह मैसेज वायरल हो रहा है. अगर आपके पास भी यह मैसेज आया है संभल जाइये. इस मैसेज में दिए गए लिंक पर भूलकर भी क्लिक ना करें. यह मैसेज बस आपकी निजी जानकारी लेने के लिए वायरल किया जा रहा है. इस मैसेज में नरेंद्र मोदी को भारत का मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि नरेंद्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री हैं.

अमित शाह की यह बात कितनी सच है कि विपक्षी पार्टियों की रैली में ‘वंदे मातरम’ का नारा नहीं लगा?

क्यों शेयर होते हैं ऐसे मैसेज

इस मैसेज में दिए गए लिंक पर क्लिक करने के बाद अलग-अलग पेज खुलते हैं और उसमें लोगों से टी-शर्ट का रंग और साइज चुनने को कहा जाता है. इसके बाद उनसे नाम, पता और पिन कोड आदि मांगा जाता है.

हम आपसे अपील करते हैं कि इस लिंक पर क्लिक ना करें. प्रधानमंत्री मोदी या उनकी सरकार की ऐसी कोई योजना नहीं है. ऐसे मैसेज लोगों की जानकारी इकट्ठा करने के लिए वायरल किए जाते हैं. अगर आप ऐसे लिंक पर जाकर अपनी जानकारी देते हैं तो इसका गलत फायदा उठाया जा सकता है. इसलिए ऐसे लिंक पर क्लिक ना करें और ना ही ऐसे मैसेज फॉरवर्ड करें. ये फर्जी मैसेज होते हैं. इसलिए इनसे सावधानी बरतें.

सोशल मीडिया पर चल रही फेक न्यूज को लेकर हमारी अपील

सोशल मीडिया पर इन दिनों जमकर फेक न्यूज शेयर की जा रही है. जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आते जाएंगे, वैसे-वैसे फेक न्यूज बढ़ती जाएगी. एक जागरूक नागरिक होने के नाते आपकी जिम्मेदारी बनती है कि आप फेक न्यूज को फैलने से रोके. इसके लिए अगर आपके पास कोई भी न्यूज आती है तो उस पर आंख मूंदकर भरोसा ना करें. सोशल मीडिया बेवफा है इसलिए इस पर आई हर खबर को सच ना माने. किसी भी खबर पर भरोसा करने या शेयर करने से पहले उसे दूसरे सोर्स से वेरिफाई जरूर करें. फेक न्यूज समाज में नफरत और झूठ फैला रही है. यह हमारे समाज और देश के लिए खतरनाक है. इससे खुद भी बचें और अपने जानने वालों को भी बचाएं.

ये भी पढ़ें-

क्या बुर्ज खलीफा पर राहुल गांधी की फोटो दिखाई गई थी? क्या है वायरल दावे की सच्चाई

अरविंद केजरीवाल के पोर्न वीडियो देखने के दावे की हकीकत क्या है? यहां जानिये पूरी कहानी

क्या तुर्की ने पीएम मोदी को सबसे महान नेता बताते हुए उनके सम्मान में टिकट जारी किया है?

Posted in Fact Check and tagged , , , , , , , , , , , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *